भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ख़ामोशी / ओसिप मंदेलश्ताम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उसका अभी जन्‍म हुआ नहीं
वह संगीत है, शब्‍द भी
इसीलिए अटूट सूत्र है वह
उस सबका जो कि जीवित है ।

चैन से साँस ले रहा है समुद्र का सीना
पर पागल की तरह उज्‍ज्‍वल है दिन,
बुझे-बुझे-से हैं लाइलैक झाग के
इस साँवले नीले पात्र में ।

प्राप्‍त होगा मेरे होठों को
वह पुरातन आदि मौन
स्‍फटिक के स्‍वरों की तरह जो
निष्‍कलुष रहा जन्‍म से !

ओ झाग, ओ अफ्रोडाइटी,
ओ शब्‍द, लौट आओ संगीत में,
ओ हृदय, शर्म कर उस हृदय से
जो एक हो गया है जीवन के मूल आधार से !

मूल रूसी से अनुवाद : वरयाम सिंह