भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ख़ामोशी / डोरिस कारेवा / तेजी ग्रोवर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं पुकारती हूँ तुम्हें
और लगता है कि
तुम मुझे ।

लेकिन मैं
सुन नहीं सकती
क्या वाक़ई ऐसा है ।

ऐसी खाइयाँ हैं
जिनके ऊपर से
कोई चिड़िया
नहीं उड़ती ।

और ख़ामोशी
किसी दीवार की तरह ।

ऐसे छायाभास
जिनसे काँप उठती है
आत्मा ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : तेजी ग्रोवर