भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ख़ामोशी / लैंग्स्टन ह्यूज़ / उज्ज्वल भट्टाचार्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुझे मिल जाती है
तुम्हारी ख़ामोशी की भनक
तुम्हारे बोलने से पहले ।

मुझे ज़रूरत नहीं
तुम्हारे किसी लफ़्ज़ की ।

तुम्हारी ख़ामोशी में
हर आवाज़ जो मैं ढूँढ़ता हूँ
मुझे सुनाई देती है ।

मूल अँग्रेज़ी से अनुवाद : उज्ज्वल भट्टाचार्य