भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ख़ुदा और नाख़ुदा मिल कर डुबो दे यह तो मुमकिन है / सीमाब अकबराबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज



खु़दा और नाख़ुदा मिलकर डुबो दें यह तो मुमकिन है।
मेरी वजहे-तबाही सिर्फ़ तूफ़ाँ हो नहीं सकता॥

दुआ जाइज़, ख़ुदा बरहक़, मगर माँगूँ तो क्या माँगूँ।
समझता हूँ कि मैं, दुनिया बदामाँ हो नहीं सकता॥