भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

ख़ुदा के बन्दे तो हैं हज़ारों बनो‌ में फिरते हैं मारे-मारे / इक़बाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


ज़माना आया है बेहिजाबी[1] का, आम दीदार-ए-यार होगा
सुकूत[2] था परदादार जिसका वो राज़ अब आशकार [3] होगा ।

गुज़र गया अब वो दौर साक़ी, कि छुप के पीते थे पीने वाले
बनेगा सारा जहां मयख़ाना हर कोई बादह्ख़ार[4] होगा

कभी जो आवारा-ए-जुनूँ थे वो बस्तियों में फिर आ बसेंगे
बरहना-पाई[5] वही रहेगी, मगर नया ख़ारज़ार [6] होगा ।

सुना दिया गोश-ए-मुन्तज़िर [7] को हिजाज़[8] का ख़ामोशी ने आखिर
जो अहद सहराइओं से बाँधा गया था फिर उस्तवार[9] होगा ।

निकल के सहरा से जिसने रोमां की सल्तनत को उलट दिया था
सुना है ये क़ुदसियों [10] से मैने, वो शेर फ़िर होशियार होगा ।

किया मेरा तज़किरा[11] जो साक़ी ने बादख़ारों की अंजुमन में
पीर-ए-मयख़ाना सुन के कहने लगा, मुंहफट है ख़ार होगा ।

दियार-ए-मग़रिब[12] के रहने वालों, ख़ुदा की बस्ती दुकाँ नहीं है
खरा जिसे तुम समझ रहे हो, ओ अब ज़र-ए-कम अयार होगा ।

तुम्हारी तहज़ीब[13] अपने ख़ंजर से आप ही ख़ुद्कुशी करेगी
जो शाख़े-नाज़ुक़[14] पे आशियाना बनेगा, नापाएदार[15] होगा ।

सफ़ीना-ए-बर्ग-ए-गुल बना लेगा काफ़िला नूर-ए-नातवाँ[16] का
हज़ार मौजों की हो कशाकश मगर ये दरिया से पार होगा ।

चमन में लाला[17] दिखाता फिरता है दाग़ अपना कली-कली को
ये जानता है कि इस दिखावे से दिलजलों में शुमार होगा ।

जो एक था ऐ निगाह तूने हमें हज़ार करके दिखाया
यही अगर कैफ़ियत हे तेरी तो किसे ऐतबार होगा ।

कहा जो कुमरी से मैने एक दिन यहाँ के आज़ाद पाबकिल हैं
तो गुन्चे[18] कहने लगे हमारे चमन का ये राज़दार होगा ।

ख़ुदा के बन्दे तो हैं हज़ारों बनो‌ में फिरते हैं मारे-मारे
मैं उसका बन्दा बनूँगा जिसको ख़ुदा के बन्दों से प्यार होगा ।

ये रस्म-ए-बज़्म-ए-फ़ना है ऐ दिल, गुनाह है जुम्बिश[19]-ए-नज़र की
रहेगी क्या आबरु हमारी जो तू यहाँ बेक़रार होगा ।

मैं जुल्मत-ए-शब में लेके निकलूंगा अपने दरमांदा[20] कारवां को
शरर फसां होगी आह मेरी, नफ़स मेरा शोला बार होगा ।

नहीं है ग़ैर जुनूत कुछ भी मुद्दआ तेरी ज़िंदगी का
तो इक नफ़स में मिटना तुझे मिसाल-ए-शरार होगा ।

न पूछ इक़बाल का ठिकाना, अभी वही कैफ़ियत है उसकी
कहीं सर-ए-रहगुज़ार बैठा सितमकश-ए-इंतिज़ार होगा ।

शब्दार्थ
  1. खुलापन
  2. चुप्पी
  3. प्रत्यक्ष
  4. शराब पीने वाला
  5. पाँव का
  6. रेगिस्तान, कम पेड़ों वाली जगह
  7. सुनने की प्रतीक्षा
  8. अरब का प्रांत जहाँ मक्का और मदीना हैं
  9. ठोस, मजबूत
  10. हदीस बोलने वाले
  11. ज़िक्र
  12. पश्चिमी देशों
  13. संस्कृति
  14. नाज़ुक टहनी
  15. कमज़ोर
  16. कमज़ोर
  17. फूल या चिड़िया
  18. कली
  19. हलचल
  20. थका