भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ख़ुदा से मिल गया है हुस्ने-क़ाफ़िर / सीमाब अकबराबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज



ख़ुदा से मिल गया है हुस्ने-क़ाफ़िर।
ख़ुदाई पर हुकूमत हो रही है॥

अभी तक महशरे-इन्सानियत में।
तलाशे-आदमीयत हो रही है॥