भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ख़ुशबू का सफ़र / फ़राज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ख़ुशबू का सफ़र[1]

छोड़ पैमाने-वफ़ा[2]की बात शर्मिंदा [3]न कर
दूरियाँ ,मजबूरियाँ[4],रुस्वाइयाँ[5], तन्हाइयाँ[6]
कोई क़ातिल ,[7]कोई बिस्मिल, [8]सिसकियाँ, शहनाइयाँ
देख ये हँसता हुआ मौसिम है मौज़ू-ए-नज़र[9]

वक़्त की रौ में अभी साहिल[10]अभी मौजे-फ़ना[11]
एक झोंका एक आँधी,इक किरन , इक जू-ए-ख़ूँ[12]
फिर वही सहरा का सन्नाटा, वही मर्गे-जुनूँ[13]
हाथ हाथों का असासा[14],हाथ हाथों से जुदा[15]


जब कभी आएगा हमपर भी जुदाई का समाँ
टूट जाएगा मिरे दिल में किसी ख़्वाहिश[16]का तीर
भीग जाएगी तिरी आँखों में काजल की लकीर
कल के अंदेशों[17]से अपने दिल को आज़ुर्दा [18]न कर
देख ये हँसता हुआ मौसिम, ये ख़ुशबू का सफ़र

शब्दार्थ
  1. सुगंध की यात्रा
  2. वफ़ादारी का संकल्प
  3. लज्जित
  4. विवशताएँ
  5. बदनामियाँ
  6. अकेलापन
  7. वधिक
  8. घायल
  9. चर्चा का विषय
  10. किनारा,तट
  11. मृत्यु-लहर
  12. ख़ून की नदी
  13. दीवानेपन की मृत्यु
  14. पूँजी
  15. अलग
  16. कामना
  17. पूर्वानुमान
  18. पीड़ित