भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

ख़ून ऐसा मुँह लगा है, जंगलों को पार कर / पवनेन्द्र पवन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ख़ून ऐसा मुँह लगा है जंगलों को पार कर
गाँव तक आने लगे हैं भेड़िये अब मार पर

ख गईं चूज़ों को घर की बिल्लियाँ, परिवारजन-
झाड़ते फिरते रहे आक्रोश सब बटमार पर

हाथ काटा था मेरे दादा का जिस तलवार ने
मेरा पोता मारता है हाथ उस तलवार पर

कोई 'अभिमन्यु' निहत्था जाए न इस व्य़ूह में
‘आपका स्वागत है’ पढ़कर शहर की दीवार पर

खेत,घर,खलिहान अपने तो जला डाले गए
हम मगर बैठे ग़ज़ल लिखते रहे मल्हार पर.