भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ख़ूबसूरत झील में हँसता कँवल भी चाहिए/ मुनव्वर राना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ख़ूबसूरत झील में हँसता कँवल भी चाहिए
है गला अच्छा तो फिर अच्छी ग़ज़ल भी चाहिए

उठ के इस हँसती हुई दुनिया से जा सकता हूँ मैं
अहले-महफ़िल[1]को मगर मेरा बदल[2] भी चाहिए

सिर्फ़ फूलों से सजावट पेड़ की मुम्किन[3]नहीं
मेरी शाख़ों को नए मौसम में फल भी चाहिए

ऐ मेरी ख़ाके- वतन[4]! तेरा सगा बेटा हूँ मैं
क्यों रहूँ फुटपाथ पर मुझको महल भी चाहिए

धूप वादों की बुरी लगने लगी है अब हमें
सिर्फ़ तारीफ़ें नहीं उर्दू का हल भी चाहिए

तूने सारी बाज़ियाँ जीती हैं मुझपर बैठ कर
अब मैं बूढ़ा हो रहा हूँ अस्तबल भी चाहिए

शब्दार्थ
  1. सभा वालों को
  2. स्थानापन्न
  3. संभव
  4. स्वदेश रज