भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खारा तूंबा मत तोड़ भायला / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खारा तूंबा मत तोड़ भायला
कंवळा धागा तूं जोड़ भायला

ऐ तपता धोरा हेला पाड़ै
मत जा आगै मुख मोड़ भायला

पग-पग पड़्या पीड़ रा मोती
म्हैं कैवूं- औ धन जोड़ भायला

जे बराबरी रो खेल निभावै
एक छोड हुवै करोड़ भायला

आ खुली हवा, पसरण दे सौरम
खुद नै खुद में मत रोड़ भायला