भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खिड़कियां बंद करने लगे जो सभी / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खिड़कियां बंद करने लगे जो सभी।
क्या होगा दुनिया का, सिचा कभी?

चंद होंठों पे है तबस्सुम तो क्या,
जमाने के अश्कों की सोचो कभी!

बंद कमरों में नहीं हक़ीक़ते-जहां,
सड़कों पे जो हो रहा, देखो कभी!

अब कौन कहां तक साथ ले-दे रहा,
यह इम्तिहां भी हो जाने दे अभी।

इतना मायूस न हो, उठ फूंक मार,
राख तले दबे अंगारे गर्म अभी?