भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खुद के विरोध में / अनिल अनलहातु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्यों होता है ऐसा
जब आदमी उठ खड़ा होता है
खुद के ही विरोध में,
 
जब उसे अपनी ही सोच
बेहद बेतुकी और भौंडी
लगने लगती है?

क्यों होता है ऐसा
जब आदमी
सुबह की स्वच्छ और ताजी हवा में
घूमने के बजाए
कमरे के घुटे हुए, बदबूदार सीलन में,
चादर में मुँह औंधा किए
पड़ा रहता है?

क्यों होता है ऐसा
जब आदमी साँपों की हिश-हिश
सुनना पसंद करने लगता है?

आखिर वह कौन-सी
प्रक्रिया है
जो उगलवा लेती है
शब्द उससे
खुद के ही खिलाफ़?

क्यों वह विवश हो जाता है
साँप की तरह
अपना केंचुल छोड़ने पर?

आदमी की आखिरी छटपटाहट
कसमसाकर
आखिर क्यों तोड़ती है
अपने ही बनाए
मर्यादा-तट को,

भागता है वह
अपने-आप से ही
गोरख (1) की हताशा लिए ।
आ क्यू (2) की उझंख
नीरवता में।



 
सन्दर्भ:
(1) हिन्दी कवि गोरख पांडे संदर्भित है।
(2) चीनी कथाकार लु शुन की कहानी "आ क्यू की सच्ची कहानी" का नायक।