भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खुद रो कागद खुद बांचतां / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गुलाबी कागद माथै
रातै रंग लिखी ऐ ओळियां
मन राखै रातो रात-रात भर

डाक में घाल
फेरूं बांचण रो सुख
क्यूं गमावूं

म्हारै कनै
म्हारो धन
फिर-फिर बांचूं म्हैं
म्हारी ओळियां
अरथावूं अर लाजां मरूं
हाय राम !
म्हैं इत्ती लाजबायरी…
इत्ती नागी-उघाड़ी…