भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खुद लड़ना होगा / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


बेबस हर मथुरा लगती है
पाश कंस का कसा हुआ है,
नीर सरोवर का ज़हरीला
नस-नस में अब बसा हुआ है।

कहो कन्हैया इनसे कैसे?
निपट सकोगे निपट अकेले ,
छल-बल सब कुछ साथ इन्हीं के
खेल कुटिलता के ये खेलें ।

कपटी कौरव सभी मिटाए
फिर भी कपट अभी तक जारी
आँखों पर पट्टी बाँधे है
गांधारी बनकर लाचारी ।

गली-गली में जुआ ठगी का
लाखों शकुनि लिये हैं पासे ,
रूप अलग हैं , काम वही है -
धोखा देकर सबको फाँसे ।

धृतराष्ट्र की न जकड़ छूटती
चूर-चूर कर डाली जनता ,
सिंहासन हैं बिल्कुल बहरे
नहीं किसी की कोई सुनता ।

चक्रव्यूह में घिरा अभिमन्यु
कौरव -दल से जूझ रहा है ,
खाली हाथ किधर है जाना
नहीं उसे अब सूझ रहा है ।

बाण भोथरे हुए पार्थ के
चक्र सुदर्शन लेकर आना ,
तुमको अब खुद लड़ना होगा
छोड़ सारथी का वह बाना ।
(19 अगस्त ,2009)