भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खुला आकाश / जगदीश जोशी / क्रान्ति कनाटे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अपनी तो बात नहीं
पानी का परदा,
अपनी तो बात है
खुला आकाश  !

कहने का उत्साह हो
सुनने का अवकाश,
पल-पल का हो यूँ
साजन, अपना मिलाप !

अपनी तो बात जैसी
माटी की सोन्धी सुगन्ध,
और सुगन्ध भरी साँस
शब्दों के मोरपँख
हैं कैसे कोमल !

अपनी तो बात में
खिलते हैं मेघधनुष
और चमके है बिजली
है ये कैसा उजास
कि अन्धकार से जा मिले
अचानक अन्त्यानुप्रास !

मूल गुजराती से अनुवाद : क्रान्ति कनाटे