भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खुशफ़ह्मी-ए'-हुनर ने सँभलने नहीं दिया / दरवेश भारती

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खुशफ़ह्मी-ए'-हुनर ने सँभलने नहीं दिया
मुझको मेरी अना ही ने फलने नहीं दिया

चाहा नये-से रीति-रिवाजों में मैँ ढलूँ
लेकिन रिवायतों ने ही ढलने नहीं दिया

एक-एक शय बदलती गयी मेरे आस-पास
हालात ने मुझे ही बदलने नहीं दिया

चलना था साथ-साथ हमें उम्र-भर, मगर
नापायदार उम्र ने चलने नहीं दिया

दिल मयकदे की सिम्त चला था, मगर उसे
इस रास्ते पे अक़्ल ने चलने नहीं दिया

अंजाम आर्ज़ू का बुरा है , बस इसलिए
दिल में कभी चिराग़ ये जलने नहीं दिया

'दरवेश' बेक़रार रहा दिल तमाम उम्र
मौक़ा सुकूं का एक भी पल ने नहीं दिया