भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खुशियाँ कम आयीं हिस्से में दुख ही अधिक सहे / अमन चाँदपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खुशियाँ कम आयीं हिस्से में दुख ही अधिक सहे

अजब दौर है शीश झुकाकर यहाँ पड़े चलना
हम बंजारे, सीधे-सादे क्या जानें छलना

मन घंटों रोया, तब जाकर थोड़े अश्रु बहे

हमने केवल उन राहों पर छोड़े हैं पदछाप
भुगत रहीं थीं, जो सदियों से ऋषि-मुनियों के शाप

विष ही पिया उम्र भर हमने लेकिन कौन कहे

दो रोटी की चिंता में ही जीवन बीत गया
लगता है सुख का घट धीरे-धीरे रीत गया

आशा की दरकीं दीवारें, सपने सभी ढहे