भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खुसी रा गीत / किशोर कुमार निर्वाण

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

थे कैवो हो
म्हैं खुसी रा गीत गावूं
देस रै बिगसाव रो जसन मनावूं
पण क्यूं?
 
कांई ओ बगत साचाणी
गीत गावण रो है?
जसन मनावण रो है?
 
थे कैवो हो
आं बरसां मांय मिनख
घणी तरक्की करी है
पण म्हनैं लागै है
स्यात थे अखबार नीं बांचो
समाचार नीं सुणो
दंगा, झगड़ा, मारकाट
बलात्कार, लूट, बदळै री आग
जे थे ऐ समाचार बांचता
तो स्यात मिनख नैं
मिनख ई नीं कैवता
 
पण थे कैवो हो
कै म्हैं खुसी रा गीत गावूं
देस रै बिगसाव रो जसन मनावूं