भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खूब पता था वो सागर है खारा पानी है / ललित मोहन त्रिवेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खूब पता था वो सागर है खारा पानी है !
फिर भी प्यास बुझाने पहुंचे ये हैरानी है !!

बहुत दूर तक सन्नाटों ने राह नहीं छोड़ी !
लेकिन हमने मीठे सुर की चाह नहीं छोड़ी !!

उधर नियति की और इधर अपनी मनमानी है .............

जीवन भर अपनी शर्तों पर जिसको जीना है !
मीरा या सुकरात हलाहल उसको पीना है !!

सर कटवाकर जीने की हठ हमने ठानी है ................

बहुत कसे तारों को थोड़ा ढीला होना था !
ढीले तारों को थोड़ा ठसकीला होना था !!

सुर के साथ हमेशा हमने की नादानी है ..................

आसमान को छू लेने की आस लगाली है !
हमने बैठे ठाले अपनी प्यास बढ़ाली है !!

छाया को कद समझ लिया है उस पर ज्ञानी है ?..........

अँजुरी भर अनुराग मिला तो आँगन सजा लिया !
चुटकी भर वैराग मिला तो ओढा बिछा लिया !!

माया पूरी की पूरी तो हाथ न आनी है ...................

न तो गोताखोर बने, जल में गहरे उतरे !
फ़िर भी सागर की बातें करने से नहीं डरे !!

अपने साथ सही, लेकिन यह बेईमानी है ...............

दौड़ रहे है लोग भला हम क्यों रह जाए खड़े ?
यही सोचकर, जाने कितने, अंधे, दौड़ पड़े !!

फ़िर इसको विकास कहते है ,अज़ब कहानी है ............