भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

खेल ही तो है... / प्रतिभा कटियार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हर मौसम से
पतझर की मानिंद
झरता अवसाद
मद्धम-मद्धम...

सन्नाटा
चबाते-चबाते
बेस्वाद हो चुकी ज़िदगी ।

दूर-दूर तक पसरे
एकांत के सेहरा में
किसी बंजारन की तरह
भटकते-भटकते,

अपनी ही साँसों की आवाज़
से घबराकर
किसी तरह पीछा छुड़ाना
फ़ुरसत से ।

व्यस्तताओं से,
मुस्कुराहटों से,

दुखों को रौंदने की कोशिश
खेल ही तो है...