भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खेल ही तो है... / प्रतिभा कटियार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हर मौसम से
पतझर की मानिंद
झरता अवसाद
मद्धम-मद्धम...

सन्नाटा
चबाते-चबाते
बेस्वाद हो चुकी ज़िदगी ।

दूर-दूर तक पसरे
एकांत के सेहरा में
किसी बंजारन की तरह
भटकते-भटकते,

अपनी ही साँसों की आवाज़
से घबराकर
किसी तरह पीछा छुड़ाना
फ़ुरसत से ।

व्यस्तताओं से,
मुस्कुराहटों से,

दुखों को रौंदने की कोशिश
खेल ही तो है...