भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गँवारों को मिलते सुख / सर्गेइ येसेनिन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गँवारों को मिलते हैं सुख,
दुख मिलते हैं रहमदिलों को ।
अरे, मुझे कुछ नहीं चाहिए
किसी का ग़म नहीं है मुझे ।

तरस आता है कुछ अपने पर
तरस आता है बेघर कुत्‍तों पर ।
यह सीधी-सी सड़क
मुझे लाई है मदिरालय तक ।

राक्षसो! यह गाली-गलौच किसलिए ?
कहो, मैं बेटा नहीं हूँ अपने देश का ?
शराब की एक-एक घूँट के लिए
हममें से किसने गिरवी नहीं रखी पतलूनें ?

देखता हूँ मटमैली खिड़की की तरफ़
दिल में आग है और उदासी ।
धूप में तपती सड़क
पड़ी है मेरे सामने ।

सड़क पर खड़ा है एक लड़का बहती नाक लिए
हवा गरम है और खुश्‍क ।
लड़का खुश है इतना
कि कुरेदे जा रहा है अपनी नाक ।

कुरेदता चल, कुरेदता चल, प्‍यारे
घुसड़ दे भीतर पूरी उँगली,
पर इतने ज़ोर से नहीं
कि घुस जाए तू ही भीतर ।

मैं तैयार हूँ । डरपोक हूँ ।
देखो - यह रही बोतलों की फौज !
अपना दिल बन्द करने के लिए
मैं इकट्ठा कर रहा हूँ ढक्‍कन ।