भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गए मौसम सरीका आज अपना प्यार लगता है / शेष धर तिवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गए मौसम सरीका आज अपना प्यार लगता है
पड़ोसी की वसीयत सा मेरा घर बार लगता है

कहाँ से लायें हम जज्बों में वो रूहानियत कल की
कि अपने में हमें कोई छुपा अय्यार लगता है

जिसे देखो उसी की आँख रोई सी लगे हर दम
कमाना और खाना भी कोई व्यापार लगता है

हमारी बेहिसी से दम घुटा जाता है कुदरत का
न जाने क्या हुआ सूरज हमें बीमार लगता है

सचाई को बयाँ करने का दम ख़म है बचा किसमे
हमें नारद की बीना का भी ढीला तार लगता है