भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गठरी के गांठ कस भारी हे मन / प्रेमजी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पथरा पहाड़ कस भारी हे मन
दुहरा असाढ़ कस भारी हे मन

जिनगी के फोटू मां कुछु न काही
बिख करिया डांड कस भारी हे मन

कइसन मया, मोर पीरा हा बाढिस
सौतेली लाड़ कस भारी हे मन

जेकर अकास के बादर उड़ागे
वइसन कछार कस भारी हे मन

जता चढ़ैव उप्पर सुन्ना ला पाएंव
लम्बा रे ताड़ कस भारी हे मन

दुख रे थे हाट, दुख काकर तिर बेचों
गठरी के गांठ कस भारी हे मन