भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गढ़ू सुम्याल (सुमरियाल) / भाग 2 / गढ़वाली लोक-गाथा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

ले मेरी जिया[1], मैं राणी आज लायूँ,
आरुणी जंगल, जड़ी खाली बूटी,
घास काटीक लाली, भैंसी मेरी चराली,
तेरी सेवा करली माता, ब्वारी[2] तेरी सुरमा!
तबरी[3] बिटैने[4] तौंकी, होणी-खाणी ह्वैगे-
गढ़ू सुमन्याल, चैन की मुरली बजौन्द!
अन्न का भण्डार ह्वैन, ऊँका धन का कोठारा,
तौंक तई तै, आरुणी जंगल मा ही, सोनों बरखे!
तब सूणीयाले दीपू बडान[5], तौंकी होणी खाणी,
ऐ दिन वैन, हात धरे लाठी,
रोन्दो-बरांदो तब, आइ गए आरुणी जंगल।
जदेऊ[6] पाँछो मेरा, बड़ा जी जेटा पाठा।
आशीष मेरा बेटा, गढू माल!
नी रये क्वी-कत, बेटा हमारा वंश मा।
बार बरस को मामलो[7], ऐला तैला सलाण रैगे।
तेरा बाबून तरवार मारे, तू तरवार मारलो,
तू होलू बेटा छेतरी बंगल, हमारू अंगस[8]!
तिन जाणा बेटा, तैला[9] मैला सलाण,
मामलो उगै[10] लौण।
तब जिया लीलादेई, इना बैन बोदी:
जि जााू बेटा, तै सलाण बैरियों का,
नि जाण गढू, काल का डिस्याण[11]
तौं सलाण्योंन[12], तेरो बाबू मारे,
तू होलू गढ़ मेरो, एकलो एकून्त!
हे जिया, सचू होलू मैं, ई बाबू को बेटा,
सलाण साथीक लौलू, बैरी बाँधीक!

पैरीने[13] वैन[14] अपणी, ऐड़ी हत्यारी[15]-
सुरमा रौतेली, पथेणा[16] नेतर छोड़ दे:
कना जाला स्वामी, विराणा विदेश,
आरुणी वण मा हम, आनन्द रौला।
आज जाणू छौं सुरमा, भोल औलू बौड़ी[17],
कायरो[18] नी करणो, तिन ज्यू अपणो!
जाणक जावा स्वामी, एक बात मेरी ली जावा,
एकुला न चल्या बाट, विराणी[19] न बैठ्याँ खाट।
प्रफूल ह्वैक दीपू, गैगे अपणा दीपू कोट।
गढू बैठे अपणी, भँवरपंख घोड़ी,
सलाण मा तब, खबर या पौंछीगे-
जेको बाबू हम लोग न मारे,
वैको बेटा यख पौंछीगे!
तब खोदीयाले तौन, सौ जरीब खाड[20]
बख मा पलंग बिछैगे, पलंग मा चदर।
सलाण का लोक तब, कठा[21] होई गैन,
औ ज्वान ज्वान छोरी, स्यूँद[22] गाडदी[23]
अब आयो हमारो पदान[24]!
तौं लोगून बड़ो, सतभौ दिखाए,
लाई ऐन तब बै, पलंग मा बैठौणा।
याद आये तब गढू, सुरमा की बोलीं-
पलंग मारी वेन, बेत की चोट,
चदर उन्दू लैगे, खाड देखेण गैरी।
भली मैमानी[25] करी, तुमन मेरी भायों,
तुमारो ऐसा न, कबी न भूलूँ।
कनो होये माल[26], घोड़ी असवार

छौलो-बुक[27] छौलो, ह्वैगे घोड़ी-
कला-सी कच्यैन[28] वैन, गाबा[29] सी काटीन!
साधीयाले तैन, स्यो सलाण,
मामलो उगाई याले!
गज करो[30], मुण्ड करो, स्यूँदी सुप्पो लगैले।
खिमासारी तब, पैटीगे[31] माल,
घर मू दीप न मदों, मन्सूबा ठाण्याल्या,
गढू़ न मरी जाण, सुरमा मैन अपणा नौनाक[32] ल्यौण।
तब वो सुरमा का मामों, एक खाल रुप्या देन्द,
सुरमा रौतेली, बुलैले मामाकोट।
दीपीकोट बिटी[33] ह्वैन बरात की त्यारी
सुरमा की माम्योंन, देखे सुरमा रूपवन्ती,
तीन जाणी नी, ना पछाणी, सोचे-
या हैकी सौत आई, कखन काल हमारी।
अनजाणा मा तौन, बीं विष खेलैले,
सुरमा अंगुडी[34] छई, पघुण्डी ढलीगे।
दीपून धरयाले तब, वा डोला पर,
पर विधाता की लेख, इनी होंदी-
रस्ता मा गढू़ माल, खाणा छौ पकौणू।
सुरमा रौतेली की, तब आँखी खुलीन,
रोन्दी छ तुड़ादी तब, वा चाखुड़ी[35] सी बराँदी।
मैं छऊँ सुरमा राणी, गढ़ू माल की,
कु छ मैं सणी, डोला पर लिआणू।
डोला से नजर लगे, माल का रस्वाड़ा[36],
भादों जसो बेला[37] छयो, मगन पड्यूँ,
डेड हात पीठ छई, डेड हात छाती।
होलू त सी होलू मेरो, स्वामी प्यारो।
फेंकदी तब गारा, सुरमा रस्वाड़ा मा,
टपराँदो[38] तब गढ़ू सुमन्याल-
अला[39] कैको आये यो काल,
कैन मेरा रस्वाड़ो पथराये।
डोला से देखे वैन, हात अगाड़ी बढ़द,
उंडो देखे वैन फुंडो, रौड़दो छ दौड़दो।
गढू़ माल, डोला मु जाँदो,
सुरमा रौतेली माथो नवौंदी-
मैं छऊँ स्वामी, विपता की मारी,
किस्मत की हारी, छऊँ तुमारी नारी।
दुश्मनुन जैर खलै, मैं बेहोश होयूँ,
तुमारा बड़ा[40] जीने[41], या कुदरत कराये।
गढ़ू माल चढ़े, छेतरी को रोष,
तैकी छाती का, बाल बवरैन!
ओंठ बबलैन वैका, भुजा फफड़ैन
आँख्यों मा वैका लोइ सरे,
दीपू बडान, यो क्या त करे?
मारीन तब बैन, दीपू का साती लड़ीक,
दी बड़ा भी दगड़े, स्वर्ग पौंछाए!
तब दीपीकोट मा वैन
कोटू बोणो कर याले!
बैरी को एक नी रखे,
रीझाना को-सी शेष।
तब सुरमा लोक, गूढ़ू सुन्याल,
खिमासारी ऐगे,
माता न बोलो भेंटें,
ब्वारीन सासू का पैर छुयाँ,
खिमासारी कोट मा, बजे आनन्द बढ़
मर्द मरी गैन, बोल रई गैन,
मर्दू का पँवाढ़ा, गाया गैन!

शब्दार्थ
  1. मां
  2. बहू
  3. तब
  4. से
  5. ताऊ
  6. जयदेव, नमस्कार
  7. मालगुजारी
  8. अंग
  9. तल्ला-मल्ला
  10. वसूल
  11. बिस्तरा
  12. सलाण के रहने वालों ने
  13. पहन लो
  14. उसने
  15. लड़ाई के कपड़े और हथियार
  16. आँसू
  17. लौट कर
  18. कातर
  19. दूसरे की
  20. गड्ढा
  21. इकट्ठा
  22. माँग
  23. निकालती
  24. प्रधान
  25. मेहमानदारी
  26. योद्धा
  27. धौन्ना
  28. काटा
  29. कन्दमूल
  30. करों के नाम
  31. प्रस्थान किया
  32. लड़को को
  33. से
  34. आगे
  35. चकोरी
  36. रसोई
  37. भैंसा
  38. इधर-उधर देखना
  39. अरे
  40. ताऊ
  41. जी ने