भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गति / अशोक कुमार शुक्ला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अंधेरे सीलन भरे कमरे से
आज फिर निकाल लिया गया है
एक पुराना टायर
जिसे फिर से लगा दिया गया है
व्यवस्था के जंग भरे वाहन में
फिर से दिखी है आज
पंचर जोडने वाले
कारीगरों के चेहरे पर चमक
पुराना घिसा पिटा टायर
आखिर कब तक चलेगा ?
जल्दी ही पंचर होगा
और पंचर टांकने के बहाने ही सही
कुछ तो चलेगी उनकी दुकान
यह सत्य तो
किसी ने देखा भी नहीं कि
बस यूं ही
मंथर किन्तु अविचल चाल से
हमेशा ही चलता रहता है
समय का पहिया
जिसमें कभी पंचर नहीं होता
और इसी के घूमने से आता है
पतझड, सावन और बसंत !