भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गपशप / दिविक रमेश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं बोला
अगर मैं रोटी !
तुझे टांग दूं आसमान में?

बोली रोटी
कुट्टी कुट्टी
अगर जो टांगा आसमान में
हाथ न तुझको आऊंगी फिर
भूखे मरना गिन गिन तारे
जिनको दोस्त बनाऊंगी मैं।

मैं बोला
पर रोटी तुम तो
बड़े काम की चीज हो प्यारी।

रोटी बोली
अक्ल ठिकाने
अब आई है अजी तुम्हारी
मैं धरती की तुम धरती के
हम दोनों में पक्की यारी।