भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गफ़लत में सोनेवालों की मैं नींद उड़ाने आया हूँ / सीमाब अकबराबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


ग़फ़लत में सोनेवालों की मैं नींद उड़ाने आया हूँ।
दुनिया को जगा कर छोड़ूँगा, दुनिया को जगाने आया हूँ॥


जो नाक़िस है वो दस्तूरे-तदबीर मिटाने आया हूँ।
इन्सान के शायाँ आईने-तक़दीर बनाने आया हूँ॥


मैं सोज़े-वफ़ा का दुनिया को पैग़ाम सुनाने आया हूँ।
जो आग लगे तो बुझ न सके वो आग लगाने आया हूँ॥