भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गमन / डोरिस कारेवा / तेजी ग्रोवर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम्हारी तस्वीर
अपने पर्स में
नहीं रखती मैं;

वह यूँ भी
मेरी पलकों के नीचे
जलती है ।

हर मुखाकृति,
भंगिमा,
स्वर-कम्पन,
मेरे अनचाहे ही,
उकेरा जा चुका है --–

एकदम स्पष्ट,
तुम्हारी पीठ,
जब तुम गए थे
उस मई में
जिसका ख़ुलासा
नहीं किया जा सकता,

उस क्रूर सर्दी में,
जैसा संकेत दिया था मैंने —

अन्धेरे में,
बाईं ओर ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : तेजी ग्रोवर