भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गर्मी (हाइकु) / भावना कुँअर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

1
गर्मी जो आई
धूप लेती जम्हाई
लू अलसाई।
2
पसीने भीगे
कलियों के चेहरे
लूएँ हैं छेड़े।
3
ये दुपहरी
बतियाती फिरती
क्यों न थकती।
4
पगडंडियाँ
हैं अलसाई पड़ी
जिद्दी हैं बड़ी।
5
क्या कर जाएँ
सिरफिरी हवाएँ
कैसे बताएँ।
6
ऊँघता कुआँ
जून की दुपहरी
लुएँ प्रहरी।