भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

गलियाँ झाकीं सड़कें छानी दिल की वहशत कम न हुई / सज्जाद बाक़र रिज़वी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गलियाँ झाकीं सड़कें छानी दिल की वहशत कम न हुई
आँख से कितना लावा उबला तन की हिद्दत कम न हुई

ढब से प्यार किया है हम ने उस के नाम पे चुप न हुए
शहर के इज़्ज़त-दारों में कुछ अपनी इज्जत कम न हुई

मन-धन सब क़ुर्बान किया अब सर का सौदा बाक़ी है
हम तो बिके थे औने पौने प्यार की क़ीमत कम न हुई

जिन ने उजाड़ी दिल की खेती उन की ज़मीनें ख़त्म हुईं
हम तो रईस थे शहर-ए-वफ़ा के अपनी रियासत कम न हुई

अब भी इतना तर ओ ताज़ा है जैसे अव्वल दिन का हो
वाह रे अपनी काविश-ए-नाख़ून ज़ख़्म की लज़्ज़त कम न हुई

‘बाक़र’ को तुम ख़ूब समझ लो रंजिश है ये दिखावे की
यूँ तुम से बे-ज़ार फिरे हैं दिल से चाहत कम न हुई