भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गवाही / रतन सिंह ढिल्लों

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब सर्दियों में
चाँद की चाँदनी में
लड़के बुक्कल मार कर[1]
बाहर किसी के
गन्ने तोड़ने नहीं जाते
क्या पता वे ख़ुद ही
टहनियों की तरह
कड़क करके टूट जाएँ
गवाही तो फिर चाँद भी नहीं देगा ।
 
मूल पंजाबी से अनुवाद : अर्जुन निराला

शब्दार्थ
  1. कंबल लपेट कर