भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गहरी झील / ज्योत्स्ना शर्मा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

71
काली हो रात
खिल उठती बाती
दीए के साथ।
72
जीने की चाह
ढूँढ लेती तम में
अपनी राह।
73
सहके पीड़ा
खिलें फुलझड़ियाँ
हँसे मुनिया!
74
गहरी झील
सुधियों के हंस भी
तिरते रहें!
75
जागी चिरैया
अरुणिमा बजाए
भोर की वीणा!
76
स्वप्न सलोने
बन राग बजते
सुर सजते।
77
नींव मुस्काई
उसने जो घर की
देखी ऊँचाई.
78
सजाये सदा
हिल-मिल सपने
प्यारा वह घर।
79
गाँव, शहर
टुकड़ों में बँटता
रोया है घर।
80
नेह की डोर
खींच लिये जाए है
छूटे न घर।