भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गहरे-गहरे-से पदचिन्ह / माहेश्वर तिवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गहरे-गहरे से पदचिह्न ।

घर की दहलीजों के नीचे,
गहरे-गहरे से पदचिह्न ।
कल तक जो थे मेरे साथ
दिखते उनसे बिलकुल भिन्न ।
गहरे-गहरे से पदचिह्न ।

ताज़े, पर अपरिचित अनाम
अभी छोड़ गई इन्हें शाम
जाने क्यों हो करके खिन्न ।
गहरे-गहरे से पदचिह्न ।

कोई चौराहे तक जाए
और इन्हें वहीं छोड़ आए
अओसा न हो कल के दिन ।
गहरे-गहरे से पदचिह्न ।