भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ग़मे-हिज्र की इंतिहा हो गई है / मेला राम 'वफ़ा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ग़मे-हिज्र की इंतिहा हो गई है
तबीयत सुकूं-आश्ना हो गई है

फुगां बन के उट्ठी थी दिल से शिकायत
मगर लब पर आ कर दुआ हो गई है

क़दम बढ़ के लेना था वाइज़ के साक़ी
बड़ी आज तुझ से ख़ता हो गई है

लबों की ख़मोशी से अब कुछ न होगा
नज़र सर ब-सर इल्तिजा हो गई है

रवा थी न बे-दाद एहले-वफ़ा पर
रवा होते होते रवा हो गई है

तिरे राज़े-उल्फ़त को रुसवा न कर दे
जो हालत तिरी ऐ 'वफ़ा' हो गई है।