भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ग़म की नदी में उम्र का पानी ठहरा-ठहरा लगता है / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ग़म की नदी में उम्र का पानी ठहरा-ठहरा लगता है
ये फ़िक़रा झूठा है लेकिन कितना सच्चा लगता है

जीत के जज़्बे ने क्या जाने कैसा रिश्ता जोड़ दिया
जानी दुश्मन भी मुझ को अब मेरा अपना लगता है

पापा-पापा कह कर मेरे पास नहीं आया कोई
आज नहीं है वो तो घर भी सहमा सहमा लगता है

चार पलों या चार दिनों में होगा वो महदूद मगर
उम्र के घर में ज़ीस्त का आँगन फैला-फैला लगता है

इस बस्ती की बात न पूछो इस बस्ती का क़ातिल भी
सीधा-सादा भोला-भाला प्यारा-प्यारा लगता है

दरवाज़े तक छोड़ने मुझ को आज नहीं आया कोई
बस इतनी सी बात है लेकिन जाने कैसा लगता है