भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ग़रीबी की गंध-1 / इदरीस मौहम्मद तैयब

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भारत ग़रीबी से रौंदता है तुम्हारे दिल को
लेकिन तुम्हें अपनी अमीरी की अश्लीलता से
फुसलाने की कोशिश करते हुए
झिझकता है
क्योंकि ग़रीबी की गंध को छाना नहीं जा सकता
यह महलों के शयनागार में घुस जाती है
लेकिन हम इसे हमेशा दूर भगाते हैं
अपने घबराने वाले विचारों की तरह
और इस गंध को दूर भगाने में
हम, अगरबत्ती या फिर
अमीर मोटी औरतों की गंध की भी
मदद लेते हैं

अंग्रेज़ी से अनुवाद : इन्दु कान्त आंगिरस