भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ग़ाफ़िल कुछ और कर दिया शमयेमज़ार ने / सीमाब अकबराबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


ग़ाफ़िल कुछ और कर दिया शमये-मज़ार ने।
आया था मैं तो नशये-हस्ती उतारने॥


हँसता है क्या बुझी हुई शमये-हयात पर।
देखी है सुबह भी तो मेरी लालाज़ार ने॥