भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ग़ुमनाम क़ब्र / इराक्ली ककाबाद्ज़े / राजेश चन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बारिश थम चुकी है,
हर्षित हैं बकाइन के पेड़ ।

उस जगह
जहाँ फूल खिलते हैं

एक ग़ुमनाम क़ब्र है
हमारे गांव की वेश्या की...

अँग्रेज़ी से अनुवाद : राजेश चन्द्र

लीजिए, अब इसी कविता का जार्जियाई भाषा से अँग्रेज़ी अनुवाद पढ़िए
              Irakli Kakabadze

It had rained,
The lilacs were rejoicing.

The place
where blooms flourish

Is the abandoned grave
Of our village courtesan . . .

Translated from Georgian by Mary Childs