भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गाँव अपना / रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पहले इतना

था कभी न

गाँव अपना

अब पराया हो गया ।

खिलखिलाता

सिर उठाए

वृद्ध जो, बरगद

कभी का सो गया ।


अब न गाता

कोई आल्हा

बैठकर चौपाल में

मुस्कान बन्दी

हो गई

बहेलिए के जाल में


अदालतों की

फ़ाइलों में

बन्द हो ,

भाईचारा खो गया ।


दौंगड़ा

अब न किसी के

सूखते मन को भिगोता

और धागा

न यहाँ

बिखरे हुए मनके पिरोता


कौन जाने

देहरी पर

एक बोझिल

स्याह चुप्पी बो गया।