भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गांव-गांव अर ढाणी चावै / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गांव-गांव अर ढाणी चावै
ऐ अगन बीज पाणी चावै

बादळियां री बदमासी है
भोर तो अठै आणी चावै

सिर हथाळी मेल राख्यो है
धूणी अठै धुखणी चावै

जागै माटी लेवै उछाळो
आ कद राजा-राणी चावै

ओलै-छांनै चालै कोनी
आखर कबीर-बाणी चावै