भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गांव म रइ जातेन / सुखनंदन लाल शिव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अड़ही मंय नइ जानव सहर के हाल ल
रिंगी चिंगी आनी बानी सतरंगी चाल ल
अपन गांवे म रइ जातेन हो, सहर डहर नइ जातेन न

सियाना दाई ददा तुंहर, आंखी उंखर झांझर हे
लाठी धर रेंगथे उन कमजोरहा जांगर हे
घर के देवता ल माना लेतेन हो सहर ढहर नइ जातेन न

वनी भूती करके हम नून पसिया पी लेबोन
जूनाह फरिया पहिर के, ये जिनगी ल जी लेबोन
चुहत छानी म फिल जातेन हो सहर डहर नइ जातेन न

गांव हमंर नीक लागय, बर पीपर छांव ह
नइ समझ पराय मोला सहरिया दांव ह
सहर गांवे ल वना लेटें हो, सहर डहर नइ जातेन न

सहर म तो वन ठन के रेंगथे सब खोर म
बांध लेही कोनो तुंहला लुगरा के छोर म
सपना कुरिया म सजा लेतेन हो, सहर डहर नइ जातेन न