भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गांव सूं घर-गळी तांई / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गांव सूं घर-गळी तांई
है एक खळबळी दांई

आ ईद आ मुळक थांरी
देसो भळै डळी कांई

बंट तो हा ज्यूं ई पड़्या है
मूंज बळी तो बळी कांई

सूरज तो आयो कोनी
काळी रात ढळी कांई

ऐ बातां कीकर भूलां
रड़कै अजै सळी दांई