भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गाने के लिए गया / केदारनाथ अग्रवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पक्षी जो

एक अभी-अभी उड़ा

और एक बोलती लकीर-सा

अभी-अभी

नील व्योम-वक्ष में समा गया

गीत वहाँ

गाने के लिए गया

गाएगा

और लौट आएगा

पक्षी जो

एक अभी-अभी उड़ा ।