भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गाह इधर देखना गाह उधर देखना / मेला राम 'वफ़ा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गाह इधर देखना गाह उधर देखना
आह! न लेकिन उन्हें भर के नज़र देखना

आहे-शररबार का आज असर देखना
गुम्बदे-आफ़ाक़ को ज़ेर-ओ-ज़बर देखना

मेरे लिए जुर्म क्यों अंजुमने-नाज़ में
एक नफ़स बैठना, एक नज़र देखना

हम भी थे हाँ खुशनसीब हमको भी था हां नसीब
उठते ही मुंह यार का वक़्ते-सहर देखना

हो न सका हमसे तर्क, कर न सके तर्क हम
राह तिरी बार बार शाम-ओ-सहर देखना

एक संभाला फिर आह नज़अ का वो आख़िरी
फिर तिरे बीमार का जानिबे-दर देखना

देख चुके और तो चाराए-दिल करके हम
एक फ़क़त ऐ 'वफ़ा' रह गया मर देखना।