भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गिरती हुई पत्तियाँ / नाज़िम हिक़मत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पचासों हज़ार उपन्यासों और कविताओं में पढ़ा है
     गिरती हुई पत्तियों के बारे में
पचासों हज़ार फ़िल्मों में देखा है पत्तियों को गिरते हुए
पचासों हज़ार बार गिरते देखा है पत्तियों को
               गिरते, उड़ते और सड़ते
पचासों हज़ार बार महसूस किया है उनकी बेजान शुश-शुश की आवाज़
               अपने क़दमों के नीचे, अपने हाथों और उँगलियों के पोरों पर
मगर अब भी मैं अभिभूत हो जाता हूँ गिरती हुई पत्तियाँ देखकर
               ख़ासकर सड़क पर गिरती हुई पत्तियाँ
               ख़ासकर शाहबलूत की पत्तियाँ
               और अगर आस-पास हों बच्चे
               अगर निकली हो धूप
               और कोई अच्छी ख़बर मिली हो मुझे दोस्ती के बारे में
ख़ासकर अगर दर्द न हो मेरे सीने में
और भरोसा हो कि मुझे चाहता है मेरा प्यार
खासकर ऐसे दिन जब मैं बेहतर महसूस करता होऊँ लोगों के बारे में
               मैं अभिभूत हो जाता हूँ गिरती हुई पत्तियाँ देखकर
ख़ासकर सड़क पर गिरती हुई पत्तियाँ
ख़ासकर शाहबलूत की पत्तियाँ
                                                                                ६ सितम्बर, १९६१
                                                                                 लीपजिग
              

अँग्रेज़ी से अनुवाद : मनोज पटेल