भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गिरते हैं कंधों पर / येव्गेनी येव्तुशेंको

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: येव्गेनी येव्तुशेंको  » संग्रह: धूप खिली थी और रिमझिम वर्षा
»  गिरते हैं कंधों पर

गिरते हैं

कन्धों पर

पतझड़ के पत्ते

झड़ती हुई सच्चाइयों के साथ

और शायद कभी

उड़ जाऊँ मैं भी

थमा हाथों में इनके अपना हाथ