भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

गिराना मिटाना / बोधिसत्व

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुझे गिराना उतना ही आसान है
जितना एक पत्ती को टहनी से गिराना
या एक आँसू को आँख से पोछना
  
लेकिन मुझे मिटाना उतना ही कठिन है
जितना पत्ती के मन से टहनी और हरेपन को मिटाना
या आँसू की स्मृति से पुतली और पलकों को पोछना