भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

गिर रहे खून के कतरे देखो / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गिर रहे खून के कतरे देखो।
वे कहते कुछ नहीं, अरे देखो!

आवाज क्या चीख तक बेअसर,
सियासत के लोग बहरे देखा!

कैसे कहें खुलकर अपनी बात,
जुबां पर लगे हैं पहरे देखो!

नया रंग पोत जो आये इधर,
इनके पुराने चेहरे देखो।

किसी की कोई थाह न मिल रही,
लोग हुए इस हद गहरे देखो।