भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गिलास में पानी उड़ेलने पर / रित्सुको कवाबाता

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: रित्सुको कवाबाता  » गिलास में पानी उड़ेलने पर

सुबह के समय
तीन नारंगी रंग के अन्ड़ेदान
मेज़ पर
तीन उबले अण्डों के साथ .
मेरा प्रिय नाश्ता .

डेडी मेरे सामने बैठे हैं
ममा मेरे साथ ,
चलो शुरू करें ब्रेकफास्ट .
जैसे ही डेडी के गिलास में पानी डालती हूँ
अन्ड़ेदानी बड़ी होने लगती है .
गिलास के पार.
अंडे भी बढ़ने लगते हैं
जैसे उछल रहे हों कप से बाहर !
ऐ लडके !
जैसे ही मैं उड़ेलती हूँ पानी गिलास में
होता है ये जादू !

अनुवादक: मंजुला सक्सेना