भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गीता कुरान ऐं बाईबल / सतीश रोहड़ा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गीता
मूंखे पसंद आहे
छो त गीता
पंहिंजनि खे मारणु धर्मु थी समुझे
(ऐं अहिड़ो बहानो ॻोल्हणु डु/खियो न आहे जंहिं सबब
कंहिं खे अन्यायी सॾे सघिजे!)
मूंखे कु़रान पसन्द आहे
कु़रान
चइन ज़ालुनि खे रवा थो समुझे
ऐं अजु/ जो क़ानूनु
हिक खां अॻिते वधणु नथो ॾिये।
(हूंअ रखी हिक खां वधीक सघिजनि थियूं!)
मूंखे बाईबल बि पसन्द आ
बाईबिल
बेइज़्ज़ती कन्दड़ खे माफ़ करण जी
सलाह थो डिए
(इएं ‘बास’ द्वारां कयल हर बेइज़्ज़ती बरदाश्त करे
वरी बि खिली सघिजे थो)
गीता
मूं साॼे हथ में झली आहे
धकु साॼे हथ सां हणिबो आहे

कु़रानु
मुंहिंजे खाॿे हथ में आहे
ज़ाल खे खाॿे पासे विहारिबो आहे
बाईबल
मुंहिंजे झुकियल मथे ते रखियलु आहे
नौकर जो फजुऱ् सिरु झुकाए बिहणु आहे

(रचना- 22, 1984)